Cheque से भुगतान करने के नियम 1 जनवरी से बदल जाएंगे, जानें विस्तार से

नए नियम लागू करने का उद्देश्य चेक के दुरुपयोग को रोकना है. इसके साथ ही, इससे फर्जी चेक के जरिए होने वाली धोखाधड़ी को भी कम किया जा सकता है.

अगले साल की शुरुआत (01 जनवरी 2021) से चेक से पेमेंट (Cheque payment) करने के नियमों में बदलाव होने जा रहा है. चेक के जरिए भुगतान करने वालों के लिए एक काम की खबर है. भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने इस बारे में नोटिफिकेशन जारी कर दिया है.

आरबीआई ने (RBI) बैंक धोखाधड़ी पर रोक लगाने की खातिर एक नया सिस्टम ईजाद करने का फैसला किया है. इस नए सिस्टम का नाम पॉजिटिव पे सिस्टम (Positive Pay System) रखा गया है. आरबीआई ने देश में तेजी से बढ़ते बैंकिंग धोखाधड़ी रोकने के लिए यह महत्वपूर्ण फैसला लिया था.

नए नियम लागू करने का उद्देश्य

नए नियम लागू करने का उद्देश्य चेक के दुरुपयोग को रोकना है. इसके साथ ही, इससे फर्जी चेक के जरिए होने वाली धोखाधड़ी को भी कम किया जा सकता है.

इतने रुपये पर यह नियम जारी

आरबीआई के इस सिस्टम के तहत 50,000 रुपये से अधिक रकम के भुगतान पर जरूरी जानकारियों को दोबारा कन्फर्म करने की जरूरत पड़ेगी. यह नया नियम 01 जनवरी 2021 से पूरे देश में लागू हो जाएगा.

नए नियम के अंतर्गत पांच महत्वपूर्ण बदलाव

•    पॉजिटिव पे सिस्टम बड़े भुगतान वाले चेक के विवरणों को फिर से जांचने की प्रक्रिया है.

•    नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एनपीसीआई) पॉजिटिव पे सिस्टम को विकसित कर इसे सहभागी बैंकों को उपलब्ध कराएगा.

•    नए सिस्टम के तहत चेक जारी करने वाला व्यक्ति चेक की जानकारी एसएमएस, मोबाइल एप, इंटरनेट बैंकिंग और एटीएम के माध्यम से दे सकता है. चेक का भुगातन से पहले इन जानकारियों की दोबारा जांच की जाएगी.

•    बैंक 50,000 रुपये और उससे ऊपर के सभी भुगतान के मामले में खाताधारकों के लिए नया नियम लागू करेंगे. हालांकि इस सुविधा का लाभ लेने का निर्णय खाताधारक करेगा. बैंक पांच लाख रुपये और उससे अधिक राशि के चेक के मामले में इसे अनिवार्य कर सकते हैं.

•    आरबीआई ने आगे कहा कि केवल वे चेक जो इस प्रणाली के निर्देशों के अनुरूप हैं, सीटीएस ग्रिड में विवाद समाधान तंत्र के तहत स्वीकार किए जाएंगे. हालांकि, बैंक सीटीएस के बाहर जमा और जमा किए गए चेक के समान व्यवस्था लागू करने के लिए स्वतंत्र होंगे.

पॉजिटिव पे सिस्टम क्या है?

पॉजिटिव पे सिस्टम एक स्वचालित टूल है जो चेक के जरिये धोखाधड़ी करने पर लगाम लगाएगा. इसके तहत, जो व्यक्ति चेक जारी करेगा, उन्हें इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से चेक की तारीख, लाभार्थी का नाम, प्राप्तकर्ता और पेमेंट की रकम के बारे में दोबारा जानकारी देनी होगी. चेक जारी करने वाला व्यक्ति यह जानकरी एसएमएस, मोबाइल ऐप, इंटरनेट बैंकिंग या एटीएम जैसे इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से दे सकता है. इसके बाद चेक पेमेंट से पहले इन जानकारियों को क्रॉस-चेक किया जाएगा. यदि इसमें कोई गड़बड़ी पाई जाएगी चेक से भुगतान नहीं किया जाएगा और संबंधित बैंक शखा को इसकी जानकरी दी जाएगी.

पृष्ठभूमि

आरबीआई ने सभी बैंकों को 01 जनवरी 2021 से पहले नए चेक के नियम से अवगत काराने के लिए जागरूक करने को कहा है. इसके लिए ग्राहकों को एसएमएस अलर्ट भेजने को कहा गया है. इसके साथ ही एटीएम और ऑनलाइन बैंकिंग के दौरान भी इस नई जानकारी से ग्राहकों को अवगत कराने को कहा गया है. आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने अगस्त महीने में एमपीसी की बैठक में इसकी घोषणा की थी.

Leave a Reply