” हिम्मत की खोज “

मैं निकल पड़ा आज हिम्मत को खोजने…..
बहुत दूर तक गया पर कहीं मिला नहीं…..

जब लौट रहा था थक हार कर…..
तभी एक चीख सुनाई दी मुझे….

मैंने देखा कुछ लोग किसी की जिंदगी खराब कर चुके थे…..
और साथ में एक दीवार पर लिख गए थे…

कायरों की झुंड में चले हो हिम्मत खोजने….
देख लो हमारी हिम्मत फिर मत बोलना कि हिम्मत कहीं मिला नहीं…..

Leave a Reply